August 2020 India Letter

मसीह में प्रिय भाइयो और बहनों 

हम आपको अपनी प्रार्थनाओ में निरंतर स्मरण रखते है और आपके लिए पिता परमेश्वर का धन्यवाद करते है। हम परमेश्वर पर भरोसा करते है, कि आप इस कठिन समय में निराश नहीं होगे वरन आप अपने को और अधिक प्रज्जवलित करेगे जिस प्रकार पहले कभी नहीं हुआ होगा । यह हमारे ह्रदय की प्रार्थना है कि इस अंतिम समय की फसल इतनी अधिक हो कि आप का जाल फट जाए, और अधिक स्थान को बनाने के लिए आप को अपने तम्बुओं के खूटों को बाहर गाड़ना पड़े।

प्रेरितों के कार्य मे – परमेश्वर कहता है “कि अन्त कि दिनों में, मैं अपना आत्मा सब मनुष्यों पर उंडेलूंगा और तुम्हारे बेटे और तुम्हारी बेटियां भविष्यद्वाणी करेंगी और तुम्हारे जवान दर्शन देखेंगे, और तुम्हारे पुरनिए स्वप्न देखेंगे।“ प्रेरितों के कार्य 2:17 

इन अनिश्चित समयों में, हम आपको प्रेरितों के कार्य की पुस्तक में जो चेलों के उदाहरण प्रस्तुत किये गए है, उन को स्मरण रखने  और उनसे सीखने के द्वारा सामर्थी बने रहने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। जब यीशु स्वर्ग में उठाया जा रहा था, उस समय उसने अपने चेलों को निर्देशों और प्रतिज्ञाओ के साथ इस पृथ्वी पर छोड़ दिया। उस की वह प्रतिज्ञा आज भी हमारे और आप के अन्दर निवास करती है। यीशु के निर्देशों का पालन करने के द्वारा चेलों ने धन्य पवित्र आत्मा को प्राप्त किया। वही पवित्र आत्मा जिसने उन्हें महान कार्य करने के लिए सामर्थ प्रदान की,  आज भी वह हमारे और आपके द्वारा कार्य कर रहा है। चेलो के द्वारा जो उसने प्रेरितों के कार्य की पुस्तक में कार्य किया, उसने कलीसियाओ को स्थापित किया और राज्य के सुसमाचार का बहुत तीव्र गति से विस्तार किया, हमारी प्रार्थना है कि काश परमेश्वर का पवित्र आत्मा आप को भी उसी प्रकार से इस्तेमाल करे प्रत्येक गाँव, कस्बे, शहर, और भारत के प्रत्येक प्रदेश में, उत्तर से ले कर दक्षिण तक, और पूरब से लेकर पश्चिम तक कोई भी ऐसा व्यक्ति न हो जिसने सुसमाचार को न सुना हो। काश भारत में कलीसिया एक ऐसी सामर्थ बन जाये जिस को कोई नहीं रोक का सके। मैं इन दिनों में अलौकिक सामर्थ की वर्षा की घोषणा करती हूँ, जिसका वर्णन योएल भविष्यवक्ता ने किया था और प्रेरितों के कार्य 2:17 में  इस को पुनः दोहराया गया है – काश अभी से आप के घरो से इसका प्रारम्भ हो जाये, जब आप अपने परिवार के साथ प्रार्थना करने मे समय व्यतीत करते हैं, उनको आत्मिक रूप से सामर्थी बनाते है और आगामी पीढ़ी के लिए कलीसिया रोपण करने वाले, पास्टर, मिशनरी, सुसमाराचार-प्रचारक, परमेश्वर का भय मानने वाले, राजनेता, डॉक्टर, कल के अगुवों की पीढ़ी को निर्मित करते है। जैसा कि परमेश्वर ने प्रतिज्ञा की है कि वह अपना आत्मा तुम्हारे बेटे और बेटियों, युवा और बूढ़े पर उडेलेगा, जैसा उसने कहा है, वह वैसा ही करेगा। काश उसका राज्य आये और वह आपके घरों में स्थापित हो जाये, और वहाँ से सड़को पर चिन्ह और चमत्कारों के द्वारा प्रकट हो। ठीक उसी ही प्रकार से जब पतरस ने पवित्र आत्मा की सामर्थ्य मे होकर प्रचार किया और 3000 लोगो ने पश्चाताप किया और बपतिस्मा लिया और कलीसिया मे सम्मलित हो गए, उसी प्रकार से आपके गांव में, आपके कस्बे में, आपके शहर में, आपके भारत में आपके और आपके परिवार के माध्य में भी ऐसा ही हो। परमेश्वर पवित्र आत्मा आपको अलौकिक साहस प्रदान करे ।

आज जब आप इसे पढ़ रहे है, काश आज आपके ह्रदयो और मस्तिष्कों में यह प्रतिज्ञा सक्रिय हो जाये। महान अवसर प्रतिकूलता में निहित होते है, इसलिए आप इस अवसर को अपने समुदाय को आशीष प्रदान करने, उत्साहित करने, दूसरों के लिए प्रार्थना करने, अपनी सम्पति को अपने पडोसी के साथ साझा करने, में उपयोग करे, ताकि पवित्र आत्मा आप के हाथ के कार्यो में गुणात्मक वृद्धि कर सके, ताकि लोग यह देखने के योग्य हो जाये कि आप का परमश्वर ही सच्चा और जीवित परमेश्वर है। काश आपका मस्तिष्क परमेश्वर के राज्य के विस्तार के लिए परमेश्वर के विचारों और रणनीति से भर जाये। जब परमेश्वर कुछ करना चाहता है – तो कोई भी उसको रोक नहीं सकता है! जहाँ पर कोई भी मार्ग नहीं होता है वह वहां पर मार्ग को निर्मित कर देता है, जब विरोध बढ़ता है तब उसकी प्रतिज्ञा को स्मरण रखे, कि हथियार तो तेरे विरुद्ध उठेंगे और वह तुझ पर कभी भी प्रबल नहीं होगे – जब आप भारत को यीशु के लिए मांग लेते है, तब परमेश्वर आपको आपके क्षेत्र में विजय प्रदान करेगा। आमीन, और फिर आमीन 

उसकी सेवा मे आपकी 

ली-ऐन रेड्डी( साउथ अफ्रीका)

वर्ड मिशन सेंटर